can we change human behavior?

कहते है, आदते जीवन को बनाती है. और आदते ही है, जो जीवन के लिए बहुत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है. ये आदते हमारे दृष्टान्त को नया रूप देने में सक्षम होती है. ये आदते जीवन को भागदौड के बीच तालमेल बिठाने का मार्ग दर्शाने का कार्य करती है. हमारी आदते यदि अच्छी है. तो हमारे भीतर एक अच्छा संसार बन जाता है. और जैसा संसार अंदर बन जाता है. वैसा ही संसार फिर बहार के वर्ल्ड में बन जाता है,

लेकिन यंहा सवाल ये है, आदते कैसे बदले? क्या सच में आदते बदली जा सकती है? तो सवाल जितना गहरा है, इतना ही इसका जवाब ऊँचा है. “आदते बदलकर ही जीवन बदला जाता है, और आदते बदलना सहज है” आप जरुर कुंडली पर विश्वास करते होगे. और ज्योतिष पर भी, तो आपको कभी पंडित ने बताया होगा आपका ये ग्रह खराब चला है. आपको ये पूजा करनी होगी.

इसके कारण बड़ी भारी भरकम धन राशी उस पूजा कार्य में चले जाती है. और जो फल प्राप्त होने चाहिए थे, उससे काफी कम मात्रा में ही फल प्राप्ति हो पाती है. कारण जो कुछ हमारे जीवन में गडबड चल रही होती है. उसका कारण हमारी ही आदते होती है. हाँ हमारा स्वभाव यदि खराब है. तो उसका असर जीवन पर पढ़ता है.

पूजा करवाने से हमारा स्वभाव कुछ दिनों के लिए अच्छा तो बन जाता. हमारा मन शांत हो जाता. परन्तु हमारी वो आदत अभी भी अंदर है. जब वो आदत फिर वापस आ जाती. तो जीवन फिर वैसा ही हो जाता है. हम सोचते है. पूजा विधि करने से हमारा जीवन में बदलाव आया. और हमारा विश्वास उसके प्रति बहुत अधिक बड जाता. परन्तु जो मूल बात है. उसको हम पकड़ते ही नही.

अब ग्रह हम पर नही बल्कि हम ग्रह पर प्रभाव डालते है. हमारा एक एक संस्कार हमारी सृष्टि बनाता है. जब हम अपने संस्कार को परिवर्तन करते है. to हमारी सृष्टि भी बदलनी आरम्भ हो जाती है. सही संस्कार से ग्रहों का प्रभाव भी अच्छा हो जाता है. ये असली बात है. जो कोई पडित जी नही बताते है.

उनकी सिद्धि केवल ग्रह के प्रभाव को निष्क्रिय करने तक है. वो भी कुछ समय के लिए. ये ठीक एसा है. जैसे एक डॉक्टर दवाई देता है. और कहता है, आपको ये जीवन भर खानी होगी. परन्तु यदि आप ठीक से अपना ख्याल रखे, और अपनी आदते परिवर्तन कर सके. तो वो बीमारी ठीक हो जाती है. ऐसे ही स्वभाव के साथ होता है.

बहरहाल ये सब हम केवल अवेयरनेस के लिए बता रहे है.

Leave a Reply